रेलवे के बारे में 21 रोचक तथ्य | Train Fact in Hindi

Short Brief: रेलवे के बारे में रोचक तथ्य | Train Fact in Hindi | indian train food | luxury indian train | royal indian train | indian train | indian train journeys | indian train food

भारतीय रेलवे के बारे में कई ऐसी दिलचस्प बाते है, जिनके बारे में शायद ही ज्यादा लोगों को जानकारी हो। तो आइए आज हम जानते है भारतीय रेलवे के बारे में कुछ ऐसी रोचक बातें, जिनके बारे में शायद ही आपको मालूम हो। ( Train Fact in Hindi )


21+ रेलवे के बारे में रोचक तथ्य | Train Fact in Hindi

  1. भारत में Indian railway की पहली ट्रेन “रेड हिल” रेलवे थी, जो सन 1837 में तमिलनाडु के Red Hills से लेकर Chintadripet पुल तक चलती थी । इस ट्रेन के निर्माण का श्रेय ब्रिटिश इंजिनियर “सर आर्थर कॉटन” को दिया जाता है। इस ट्रेन का उपयोग मुख्य रूप से ग्रेनाइट परिवहन के लिए किया जाता था।
  2. भारत में Indian railway का सबसे पहला रेलवे स्टेशन मुंबई में स्थित बोरीबंदर था । देश की पहली यात्री ट्रेन इसी स्टेशन से पुणे तक चली थी । इसे “Great Indian Peninsular Railway” द्वारा बनाया गया था। इस स्टेशन को साल 1888 में “विक्टोरिया टर्मिनस” के रूप में फिर से बनाया गया, जिसका नाम इंग्लैंड की महारानी “विक्टोरिया” के नाम पर रखा गया था।
  3. इस देश और साथ ही इस दुनिया का सबसे लम्बा रेलवे प्लेटफार्म उत्तर प्रदेश के गोरखपुर रेलवे स्टेशन में स्थित है, जिसकी लम्बाई 1,366 मीटर है । इससे पहले यह रिकॉर्ड पश्चिम बंगाल के खड़गपुर रेलवे स्टेशन के एक प्लेटफार्म का था, जिसकी लम्बाई 1,072 मीटर थी।
  4. देश की पहली यात्री ट्रेन सेवा 16 अप्रैल, 1853 को शुरु की गयी थी । यह ट्रेन मुंबई से ठाणे के बीच लगभग 33 किलोमीटर की दूरी तय करती थी । इस ट्रेन में लगभग 400 यात्री सफ़र करते थे। साथ ही इस दिन को  सार्वजनिक अवकाश भी घोषित किया गया था ।
  5. भारत में सबसे पहली इलेक्ट्रिक ट्रेन 3 फरवरी, 1925 को मुंबई के विक्टोरिया टर्मिनस से कुर्ला हार्बर के बीच चली थी । बाद में इस इलेक्ट्रिक लाइन को नासिक के इगतपुरी जिले और फिर पुणे तक विस्तारित कर दिया गया था।

Train Fact in Hindi 06 – 11

  1. मौजूदा समय में देश की सबसे तेज़ चलने वाली ट्रेन है “वंदे भारत एक्सप्रेस”। इस ट्रेन का 180 किलोमीटर की रफ़्तार तक परिक्षण किया गया है । इसके अलावा इस ट्रेन को औसतन 160 किलोमीटर की गति पर चलाया जाता है।
  2. “मथुरा जंक्शन” भारत का सबसे बड़ा रेलवे जंक्शन है । इस स्टेशन से अलग-अलग सात (7) मार्ग बनते हैं। इस स्टेशन में दस प्लेटफार्म है, साथ ही यह जंक्शन भारत के सभी प्रमुख शहरों से अच्छी तरह जुड़ा हुआ है।
  3. प्रसिद्ध “Fairy Queen” दुनिया का सबसे पुराना काम करने वाला लोकोमोटिव है, जो कि अभी भी उपयोग में है। सन 1855 में बने इस लोकोमोटिव को, Guinness Book of Records में नियमित सेवा में दुनिया के सबसे पुराने स्टीम लोकोमोटिव के रूप में सूचीबद्ध किया गया है ।
  4. Fairy Queen को 1972 में दिलचस्प रूप से भारत सरकार द्वारा heritage घोषित किया गया।
  5. “Mettupalayam Ooty Nilgiri” पैसेंजर ट्रेन देश की सबसे धीमी ट्रेन है, जो की सिर्फ 10 किलोमीटर प्रति घंटे की रफ़्तार पर चलती है । पहाड़ी इलाकों में चलने के कारण इस ट्रेन की रफ़्तार इतनी धीमी है। यह ट्रेन 5 घंटे में सिर्फ 46 किलोमीटर की दूरी तय करती है।
  6. साल 1986 में, Indian railway ने नई दिल्ली में पहली बार कंप्यूटर द्वारा reservation करना शुरू किया । कंप्यूटर के इस्तेमाल से पहले, भारतीय रेलवे पारंपरिक मैनुअल रजिस्ट्री प्रविष्टि पद्धति का पालन करता था, जिसके कारण यात्रियों को टिकट लेने के लिए घंटों तक कतारों में खड़ा होना पड़ता था।

Highlight Point Of Train Fcats

भारत में पहली ट्रेन1837 में रेड हिल्स से चिंताद्रिपेट पुल के बीच चली थी
सबसे लंबी ट्रेनसबसे लंबी ट्रेन का सफर पूरा करने में लगता है 82.30 घंटे का समय।
विश्‍व और भारत का सबसे लंबा प्लेटफार्मगोरखपुर रेलवे स्टेशन पर है।
लग्जरी ट्रेनमहाराजा एक्सप्रेस भारत की सबसे महंगी लग्जरी ट्रेन है
Highlight Point Of Train Fcats

रेलवे के बारे में रोचक तथ्य 12 – 16

  1. तमिलनाडू और आंध्र प्रदेश के बॉर्डर पर स्थित “Venkatanarasimharajuvaripeta” स्टेशन देश के सबसे लंबे नाम वाला रेलवे स्टेशन है, जिसके नाम में कुल 28 अक्षर है। स्थानीय लोग आमतौर पर इसके नाम से पहले उपसर्ग ’श्री’ जोड़ते हैं, जिससे यह और 3 अक्षर लम्बा हो जाता है।
  2. ओडिशा में स्थित “Ib” स्टेशन देश के सबसे छोटे नाम वाला रेलवे स्टेशन है, जिसके नाम में सिर्फ दो अक्षर है। इस लोकप्रिय स्टेशन ने अपना नाम “Ib” नदी से प्राप्त किया है, जो की महानदी की एक सहायक नदी है।
  3. “महाराजा एक्सप्रेस” Indian railway की सबसे महंगी luxury ट्रेन है, और साथ ही यह पूरे एशिया में भी सबसे ज्यादा महंगी है । 8 दिनों के दौरान, महाराजा एक्सप्रेस अपने मेहमानों को भारत के कुछ प्रमुख पर्यटन स्थलों में ले जाती है, जिनमें ताजमहल, खजुराहो मंदिर, रणथंभौर, फतेहपुर सीकरी और वाराणसी के स्नान घाट शामिल हैं। इसमें एक deluxe cabin के लिए मूल्य निर्धारण $800 डॉलर से शुरू होता है, जबकि किसी presidential suite का सबसे महंगा टिकट $2,500 डॉलर तक का होता है।
  4. भारत देश का सबसे बड़ा रेलवे स्टेशन पश्चिम बंगाल में स्थित “howrah” जंक्शन है । सबसे बड़ा होने के साथ-साथ यह देश के सबसे व्यस्त स्टेशनों में से भी एक है । इस स्टेशन में कुल 23 प्लेटफार्म है । इस स्टेशन से रोजाना लगभग 600 यात्री ट्रेन गुजरती है, और लगभग 10 लाख लोग रोजाना इस जंक्शन का उपयोग करते है।
  5. Indian railway द्वारा चलाई गई अब तक की सबसे लम्बी ट्रेन “SheshNaag” है । इस ट्रेन की कुल लम्बाई 2.8 किलोमीटर थी । IRCTC ने इस ट्रेन को चार खाली BOXN रेक को समाहित करके संचालित किया, जिसे चार इलेक्ट्रिक इंजन की मदद से चलाया गया था। इसे एक experiment के तौर पर चलाया गया था, ताकि आने वाले समय में इसकी मदद से कम समय में ज्यादा से ज्यादा माल को एक जगह से दूसरे जगह पहुंचाया जा सके।

Train के बारे में रोचक तथ्य 17 – 21

  1. केवल तीन बोगियों के साथ और 30 किमी प्रति घंटे की सुस्त गति से 13.68 किलोमीटर की दूरी तय करने वाली, indian railway में उत्तरप्रदेश के बुंदेलखंड में मौजूद “Konch-Ait shuttle” देश की सबसे छोटी रेल सेवा मार्ग है। इसमें रोजाना 400 से 500 लोग सफ़र करते है, और यह अपनी दूरी सिर्फ 35 मिनट में पूरी कर लेती है। Konch में रेलवे स्टेशन केवल शटल की वजह से ही मौजूद है, लेकिन यह स्थानीय लोगों का गौरव है, जो इस डर से बिना टिकट यात्रा नहीं करते हैं, कि इसे रोका जा सकता है क्योंकि यह एक नुकसान में चलने वाली सेवा है।
  2. दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे का “Ghum” रेलवे स्टेशन भारत में मौजूद indian railway का सबसे ऊँचा रेलवे स्टेशन है। यह स्टेशन 2,258 मीटर (7,407 फीट) की ऊंचाई पर स्थित है । दार्जिलिंग हिमालयन रेलवे का निर्माण सन 1879 में शुरू हुआ था, और 4 अप्रैल, 1881 तक रेल ट्रैक Ghum स्टेशन तक पहुंचा।
  3. आज के समय में भले ही indian railway के काफी सारे ट्रेनों में हवाई जहाज जैसे शौचालय लगाए जाते है, लेकिन यह सेवा ट्रेनों में काफी समय बाद शुरू की गयी । साल 1909 से पहले ट्रेनों में शौचालय की सुविधा नहीं होती थी।
  4. 2 जुलाई सन 1909 को, एक भारतीय रेलवे यात्री, “ओखिल चंद्र सेन”, ने साहिबगंज मंडल कार्यालय पश्चिम बंगाल को एक पत्र लिखा और भारतीय रेलवे में शौचालय स्थापित करने का अनुरोध किया । इसके बाद ही ट्रेनों में शौचालय बनाने का फैसला लिया गया।
  5. “चिनाब पुल” भारतीय रेलवे का एक स्टील और कंक्रीट आर्च ब्रिज है जो भारत के जम्मू और कश्मीर के रियासी जिले में “Bakkal” और “Kauri” के बीच निर्माणाधीन है। पूरा होने पर, यह पुल चिनाब नदी के ऊपर 359 मीटर (1,178 फीट) की ऊंचाई पर बना हुआ होगा, और यह दुनिया का सबसे ऊंचा रेल पुल बन जाएगा ।

Important Point

Important PointLinks
Indian Train Full InformationClick Here
Indian Train Station Full InformationClick Here
Contact UsClick Here
Home PageClick Here

FAQ’s Of Train facts

1. भारतीय रेल का राष्ट्रीयकरण कब हुआ?

भारतीय रेल का राष्ट्रीयकरण  1950 में हुआ

2. भारत में सर्वप्रथम रेल का शुभारंभ किसने किया था? 

भारत में सर्वप्रथम रेल का शुभारंभ लॉर्ड डलहौजी ने किया था

3. वृंदावन एक्सप्रेस किन स्थानों के मध्य चलती है?

वृंदावन एक्सप्रेस चेन्नई और बैंगलुरू स्थानों के मध्य चलती है?


Join WhatsApp Group